RSS

Category Archives: Uncategorized

बाप-बेटी की कहानी- एकुलती एक

सचिन पिळगांवकरजी के सिनेमा कारकिर्दगी का ५० वा साल संपन्न होने के वर्ष में उनकी नयी फ़िल्म ’एकुलती एक’ रीलीज़ हुई है. उनकी इकलौती सुकन्या श्रिया का फ़िल्म प्रदार्पन इस फ़िल्म से हुआ. फ़िल्म रिव्ह्यु के पुर्व मै यह बताना चाहुंगा की, उनका यह प्रदार्पन तथा प्रदर्शन नवोदित होने के पश्चात भी काफ़ी काबिले तारिफ़ रहा है. सचिन-सुप्रिया के वारिसदार के तौर पर श्रिया मराठी फ़िल्म जगत में काफ़ी आगे बढ सकती है.

Image

’एकुलती एक’ का मतलब है- इकलौती संतान (लड़की). श्रिया का फ़िल्म में नाम स्वरा है जो बचपन में ही अपने पिता से अलग हो चुकी है और उसका पालन मां ने किया है. सचिनजी अरूण देशपांडे नामक प्रसिद्ध गायक के रूप में नज़र आते है, जो स्वरा के पिता है. फ़िल्म की पूरी कहानी इसी पिता-पुत्री के ’केमिस्ट्री’ पर आधारित है. बचपन में खोया हुआ पिता का प्यार पाने के लिए उन्हें समझने के लिये स्वरा उनके घर मुंबई आती है. दोनो के बीच लगाव-अलगाव के कई प्रसंग आते है, इन्हें सचिनजी ने परदे पर पेश किया है. फ़िल्म की कहानी तफसील में बताना यहा उचित नहीं होगा. सचिनजी ने खुद लिखी इस कहानी के कई अंग उन्होंने सही ढंग से निर्देशित किये है. उनका मराठी फ़िल्म जगत का इतने सालों का तरजुबा इस फ़िल्म में काफ़ी अच्छी तरह से नज़र आता है. लेकिन, यह फ़िल्म उनके अन्य फ़िल्मों की तरह विनोद के आधार पर नहीं बनी, यही विशेषता मानी जायेगी. मैने खुद उनकी ’आत्मविश्वास’ यह अंतिम फ़िल्म देखी थी जो पारिवारिक कहानी को लेकर बनायी गयी थी. उसके बाद ’एकुलती एक’ का नाम ले सकते है. फ़िल्म का हर एक केरेक्टर अपनी जगह बिल्कुल सही बिठाया गया है. हमेशा की तरह इसी फ़िल्म में भी अशोक सराफ़ का बड़ा रोल है. अरूण देशपांडे के सेक्रेटरी के रूप मे वे दिखाये गये है. सचिन-श्रिया के बाद मुख्य भुमिका उनकी ही रही है. उन्हें विनोदी ढंग से परदे पर देखा जा सकता है. उनके साथ साथ किशोरी शहाणे की भी भुमिका ’एकुलती एक’ में छाप दिखाती है.
सुबोध भावे, निर्मिती सावंत, विनय येडेकर तथा सुप्रिया पिळगांवकर भी इस फ़िल्म में अपना दर्शन देते है. सुप्रियाजी को स्वरा के मां के रूप में पेश किया गया है. सचिनजी एक महान कलाकार है ही लेकिन श्रिया का अभिनय प्रदर्शन देखने की मुझे बहुत इच्छा थी. मैं इससे काफ़ी खुश हूं. किसी भी दृश्य में वह कम नहीं दिखाई देती. बॉलिवूड फ़िल्म जगत में ऐसा देखा गया है की, स्टार्स के बच्चें अपने पहले कुछ फ़िल्मों में सामान्य ही अभिनय प्रदर्शन करते है. लेकिन यह मराठी लड़की अपने पहले ही फ़िल्म में बेहतरीन अदाकारी पेश कर चुकी है. भविष्य में मराठी जगत की अग्रणी अभिनेत्री बनने का सामर्थ्य इस लडकी में दिखता है. श्रिया के परफार्मेंन्स के लिये तो यह फ़िल्म देखना बनता है!
’एकुलती एक’ के संगीत के बारे में बताया जाये तो, जितेंद्र कुळकर्णी के ’नवरा माझा नवसाचा’ फ़िल्म की एक बार फिर से याद आ गयी. उसी ढंग का संगीत इस फ़िल्म में सुनाई दिया. सोनू निगम फिर से सुनने को मिलें. उसके लिये धन्यवाद देना चाहूंगा.
मराठी में एक अच्छी कहानी तथा श्रिया की अदाकारी को देखने के लिये यह फ़िल्म एक बार ज़रूर देखिये.
मेरी रेटिंग: ३.५ स्टार्स.

 

टैग: , , , , ,

कंप्युटर मेमरी के परिमाण

किसी भी बात को नापने के लिये मात्रकों की अर्थात युनिट्स की ज़रूरत लगती है. कंप्युटर की मेमरी नापने के लिये भी किन्ही मात्रकों की तथा परिमाणों की ज़रूरत हैं. इन में से हम बहुत कम मात्रक जानते है. जैसे की मेगाबाईट, किलोबाईट तथा टेराबाईट आदि. असल में आजतक कंप्युटर की मेमरी इस से ज़्यादा नहीं बढ़ सकी है. किसी कंप्युटर इंजिनियर को भी इस के आगे वाले मात्रकों के बारे में जानकरी नहीं होगी! लेकिन कंप्युटर मेमरी की आज की रफ़्तार देखकर ऐसा लगता है की, आनेवाले कई सालों में हमे नये मात्रकों की जरूरत लग सकती हैं. रजनिकांत के ’इंदिरन’ अर्थात ’रोबोट’ नामक फ़िल्म में उसने अपना खुदका configuration बताने के लिये इसी मेमरी के किसी मात्रक का इस्तेमाल किया था. वह नीचे दियी गयी सूची में कौन सा है, इस का पता आप लगाईयेगा…!!!
 
१ बिट (० अथवा १) = बायनरी डिजिट

८ बिट्स = १ बाईट

१०२४ बाईट्स = १ केबी (किलोबाईट्स)

१०२४ केबी = १ एमबी (मेगाबाईट्स)

१०२४ एमबी = १ जीबी (गीगाबाईट्स)

१०२४ जीबी = १ टीबी (टेराबाईट्स)

१०२४ टीबी = १ पीबी (पेटाबाईट्स)

१०२४ पीबी = १ ईबी (एक्साबाईट्स)

१०२४ ईबी = १ झेडबी (झेटाबाईट्स)

१०२४ झेडबी = १ वायबी (योटाबाईट्स)

१०२४ वायबी = १ बीबी (ब्रॉंटोबाईट्स)

१०२४ बीबी = १ जीऑपबाईट्स

जीऑपबाईट्स यह कंप्युटर मेमरी नापने का सबसे बड़ा मात्रक है!
 

टैग: , , ,

एसाइड

महेश मांजरेकर निर्देशित फिल्म ’मी शिवाजीराजे भोसले बोलतोय’ यह मराठी की आजतक की सबसे बड़ी ब्लॉकबस्टर फिल्म रही है. मराठी चित्रजगत में नयी क्रांती की शुरुआत इस फिल्म से हुई थी. इस फिल्म के यश स्वरूप मराठी मे कई फिल्में ’मराठी माणूस’ को सामने रखकर बनाई गयी. कुछ फिल्में चली और कुछ नहीं! ’जय महाराष्ट्र ढाबा बठिंडा’ यह फिल्म भी इसी ’मराठी माणूस’ के विषय को लेकर बनाई गयी है.

Imageनिर्देशक बने संगीतकार अवधूत गुप्ते की यह तीसरी मराठी फिल्म है. इस से पहले उनकी ’झेंडा’ तथा ’मोरया’ यह फ़िल्में बॉक्स आफिस पर अच्छा करिष्मा दिखा कर गयी थी. विशेषत: दोनो फ़िल्में कुछ न कुछ विवाद में रहने के बावजूद भी अच्छा कमाल दिखा गयी थी. पहले दो फ़िल्मों की तरह अवधूत गुप्ते निर्देशित ’जय महाराष्ट्र ढावा बठिंडा’ भी मराठी माटी से तालुक रखती है. इस फ़िल्म में अवधूत गुप्ते सिर्फ़ निर्देशक के रूप से सामने आये है. ऐसा कहा जाता है की, मराठी आदमी सिर्फ़ महाराष्ट्र मे ही अपना धंदा या कारोबार संभाल सकता है. महाराष्ट्र के बाहर वह कुछ भी नहीं कर सकता. इसी थीम को लेकर अवधूत ने  ’जय महाराष्ट्र ढावा बठिंडा’ की कहानी लिखी है. इस फ़िल्म में सिरियलों अभिनेता अभिजित खांडकेकर पहली बार रूपेरी परदे पर नज़र आये है. तथा अभिनेत्री प्रार्थना बेहेरे भी इसी फ़िल्म से अपना करियर शुरू कर चुकी है. मराठी में एक्शन हिरो की कमी इस फ़िल्म से फिर एक बार महसूस होती है. मराठी आदमी पंजाब के बठिंडा मे जाकर मराठी ढाबा खोलता है, इसी थीम पर यह फ़िल्म बनाने की कोशिश अवधूत ने की है. लेकिन वह एक प्रेमकहानी बन गयी है. ढाबे को बाजू में रखकर रोमँटिक फ़िल्म की ओर इस फ़िल्म की कहानी चल पडती है. फ़िल्म की शूटिंग पहली बार पंजाब में की गयी है, उसे कई बार पंजाबी टच नज़र आता है. कहानी को देखा जाये तो शायद उस पर ज़्यादा मेहनत लेने की ज़रूरत शायद अवधूत गुप्ते को थी. तभी एक अच्छी फ़िल्म वे बना सकते थे. निर्देशन उनका ठीक है, लेकिन कहानी समझने में ही दर्शक उलझते रहते है. यही इस फ़िल्म की ’कहानी’ है, ऐसा भी हम मान सकते है. अभिजित तथा प्रार्थना का यह ’डेब्यु’ ठीक ही रहा. दमदार एन्ट्री की अपेक्षा हम अभिजित खांडकेकर से कर रहे थे. लेकिन वे भी इस में सफल नहीं रहे.

अवधूत ने पहली बार अपने फ़िल्म को संगीत नहीं दिया लेकिन निलेश मोहरीर ने इस फ़िल्म के संगीत में कोई भी कमी महसूस होने नहीं दी. फ़िल्म के गीत तथा संगीत ही सबसे मज़बूत बाजू है, ऐसा मैं कह सकता हूं. हर एक गीत मौसिकी के नज़रिए से बहुत ही श्रवनीय है. गूरू ठाकूर के गीत हमेशा की तरह याद रहते है. एक बार यह फ़िल्म देखने में कोई हर्ज नहीं, लेकिन शायद कथा सूत्र में उलझना पड सकता है.
मेरी रेटिंग: ३ स्टार, संगीत: ४.५ स्टार.

जय महाराष्ट्र ढाबा बठिंडा: रीव्ह्यु

 

टैग: , ,

किलों का राजा: राजगड

Imageछत्रपति शिवाजी महाराज की राजधानी रहा किला राजगड के बारे में मुझे हमेशा उत्सुकता रही थी की यह किला कैसा होगा? तारिख़ के पन्नों में राजगड का वर्णन मैने सिर्फ़ पढा था. मगर देखने का सौभाग्य सन २०१२ में हासिल हुआ. दैनिक दिव्य मराठी को मैं इसलिये धन्यवाद देना चाहूंगा की उनकी वजह से मेरा यह सपना हुआ पूरा हुआ! दिव्य मराठी में मेरी लेख शृंखला किलों के विषय में शुरू होने वाली थी. इस के लिये उन्हों ने पहले ही रायगड़ तथा राजगड के विषय पर ही लेखों की मांग की. लेकिन मेरे पास दोनो लेख तैयार नहीं थें. इसलिये मैं और मेरा भाई दोनों पिछले साल दिसंबर में राजगड किलें की सैर करने निकल पड़े.

 

मैने यह तो सुना था की तोरणा किला तथा राजगड दोनों एक दूसरे के बहुत ही नज़दीक है. पिछले साल ही हमने तोरणा किले की भी सैर की थी मगर बारिश के मौसम में धुंद होने की वजह से तोरणा ही ठिक से देख नहीं पाए, राजगड तो दूर की बात थी. इस बार वातावरण साफ़ था. किले का वर्णन हमने इतिहास के किताबों में तो पढ़ा था तथा इंटरनेट से भी कुछ जानकारी हासिल की थी. किला एक दिन में देखना बहुत ही मुश्किल था. इसलिये सुबह साढेछह बजे ही पुणे से राजगड की ओर चल पडे. ठंड का मौसम होने की वजह से हवा में बहुत सर्द भरी हुई थी. पुणे के नज़दीक ही सिंहगड पहुंचते पहुंचते एक घंटा चला गया. तब तक सूरज काफ़ी उपर आ पहुंचा था. रविवार होने की वजह हे हमेशा की तरह सिंहगड पर युवतीयों की काफ़ी भीड़ थी. वे रविवार को यहां क्या करने आती है, इसका इल्म अब सारे पुणे को हो चुका है! सिंहगड से दाई तरफ़ जानेवाले रास्तें पर राजगड करीब तीस किलोमीटर की दूरी पर है. लेकिन यह रास्ता पहाडों के बीच से गुजरता है तथा कई घाट इस रास्ते में है. इसी कारणवश यहां से राजगड पहुंचने के लिये एक घंटा तो लगता ही है. जिस पहाड़ को पार करते वक्त सिंहगड. दृष्टी से दूर जाता है, वही राजगड तथा तोरणा किला नज़र आता है! राजगड और तोरणा की यह जोडी दूर से अद्भूत नज़र आती है. वैसे तोरणा किला वेल्हे, जो तहसील का स्थान है उस के करीब ही है. लेकिन राजगड के नज़दीक कोई बड़ा गांव नहीं है. अगर किसी सरकारी बस से आना हो तो कई दूर तक पैदल चलना पड़ता है. वेल्हे तहसील में इसी रास्ते पर ’पाबे’ नामक गांव से दो रास्ते निकलते हैं. बांया राजगड की ओर और दांया रास्ता तोरणा की तरफ़ जाता है. इस जगह से करीब दस बारह किलोमीटर की दूरी पर राजगड किला है. रास्ते पर चलते चलते राजगड का अनोखा दर्शन हम ले सकते है. इस रास्ते पर आखरी गांव है, भोंसलेवाडी. इस रास्ते से राजगड का तल दोनतीन कि.मी. की दूरी पर है. चलते चलते राजगड की अद्भूत उंचाई नापते नापते ही हम चलते है. मराठों का गौरवशाली इतिहास आंखों के सामने ख़ड़ा होता है. छत्रपति शिवाजी महाराज की राजधानी कैसी होनी चाहिये, इस का उत्तर हमें और खोजने की कतई जरूरत नहीं होती.

 

किले के तल से शिखर तक का सफ़र पार करने के लिये करीब डेढ़ घंटे का समय तो लग ही जाता है. इस रास्ते पर आधा सफ़र पार करने पर पत्थरों की सीढीयां नज़र आती है. एक एक पैड़ी एक आदमी जितनी लंबी है. यह पत्थर इतने उपर कैसे लाए गए होंगे, इस का हम अंदाज़ा भी नहीं लगा सकते. किले के शिखर पर पहुंचने से पहले मुख्य दरवाज़ा दिखाई देता है. आज भी यह दरवाज़ा काफ़ी मज़बूत स्थिती मे है. राजगड किले के चार प्रमुख भाग हैमुख्य किला (जिसे बालेकिला कहते है), संजीवनी माची, सुवेळा माची तथा पद्मावती माची. राजगड का सबसे उंचा भाग बालेकिला ही है. पुराने जमाने में यही मुख्य किला था. उसे मुंरूंबदेव का पहाड़ कहा करते थे. लेकिन शिवाजी महाराज ने इस पर्वत पर विजय हासिल करने के पश्चात सुवेळा, संजीवनी तथा पद्मावती माची का निर्माण किया और यह किला बहुत बड़ा दिखने लगा. किले की दाई ओर संजीवनी माची है. यह भाग करीब दोढाई किलोमीटर का है. आज भी वह सुस्थिती मे दिखाई देता है. यहा से भाटघर बांध तथा तोरणा किला साफ़ दिखाई देता है. तोरणा की तरफ़ जानेवाला रास्ता यही से निकलता है. बालेकिला के पिछली बाजू में सुवेळा माची है. इस माची पर हम कई स्थल देख सकते है. हस्तीप्रस्तर तथा यहा से आने के लिए और एक कठिन दरवाज़ा इसी माची पर है. यह दो किलोमीटर की माची है. माची के अंतिम शिखर से पुरंदर तथा वज्रगड दिखाई देते है. सुवेळा माची से पद्मावती माची की ओर जाने के लिए बालेकिला के दाई तरफ़ से जाना पड़ता है. इसी रास्ते पर नीचे की तरफ़ जाने के लिए एक और द्वार है जिसे ’गुंजवणे दरवाजा’ कहते है. यह गुंजवणे गांव से उपर आता है.

 

छोटी होने के बावजूद पद्मावती माची पर देखने लायक कई जगह है. सदर, पद्मावती मंदिर, पेयजल के ठिकान, चोर दरवाज़ा, पद्मावती तलाव इस माची पर स्थित है. यही सामने की तरफ़ सिंहगड किला दिखाई देता है. यहा से बालेकिला की ओर जाने के लिए पिछे जाना पड़ता है. रास्ते पर बड़ा ध्वजस्तंभ लगाया हुआ है. बालेकिला की ओर जानेवाला रास्ता झाडियों से निकलता है. यह रास्ता राजगड का सबसे कठिन रास्ता होगा. आज यहा पर दोनो तरफ़ रेलिंग लगाई हुई है, इसलिए यहा की चढा़ई सुलभ हो चुकी है. कभी कभी कल्पना करता हूं की, शिवकाल में यहा से लोग कैसे आते जाते रहे होंगे? यह रास्ता पार करने पश्चात हम बालेकिला के मुख्य दरवाज़े पर पहुंचते है. यही से सामने सुवेळा माची नज़र आती है. बालेकिला का परिसर इतना विस्तीर्ण तो नही है. यहा कई जगह महलों के अवशेष नज़र आते है. दाई तरफ़ ब्रम्हर्षी ऋषी का एक छोटा मंदिर भी दिखाई देता है. बालेकिला इस जगह का सबसे उंचा स्थान होने की वजह से यहां से पूरा मावळ इलाका एक ही दृष्टी में सहज समा जाता है. आजुबाजु के सभी किलें यहां से नज़र आते है. शिवचरित्र का पुनर्संशोधन करने का मन करता है. यही से मराठा साम्राज्य की यह पहली राजधानी कितनी मनमोहक रही होंगी, इसका अंदाज़ा आ सकता है.

 

शिवाजी महाराज का सबसे अधिक वास्तव इसी किले पर था. इसलिए शिवप्रेमीओं के लिए यह किला एक तीर्थक्षेत्र की तरह है. अगर शिवाजी महाराज को जानना है तो इस किलें को एक बार ज़रूर भेंट देना मत भूलिए

 

जय शिवाजी, जय भवानी…!!

 

किलों का राजा: राजगड

 

टैग: , , , ,

Hello world!

Welcome to WordPress.com. After you read this, you should delete and write your own post, with a new title above. Or hit Add New on the left (of the admin dashboard) to start a fresh post.

Here are some suggestions for your first post.

  1. You can find new ideas for what to blog about by reading the Daily Post.
  2. Add PressThis to your browser. It creates a new blog post for you about any interesting  page you read on the web.
  3. Make some changes to this page, and then hit preview on the right. You can alway preview any post or edit you before you share it to the world.